घर के नौकर से मिटवाई चूत की खुजली

घर के नौकर से मिटवाई चूत की खुजली

ghara ke naukar  se mitbai khujli

घर के नौकर से मिटवाई चूत की खुजली – हेल्लो दोस्तों, मैं निशा कभी कभी sexkahanni.com पर सेक्स कहानियां पढ़ती हूँ और अपनी चूत में ऊँगली करती हूँ | malkin ke sath sex story मेरा घर दिल्ली में है | मैं दिखने में बहुत हॉट हूँ और मेरी उम्र 27 साल है | मेरा फिगर सेक्सी है और मेरे बूब्स काफी बड़े और सेक्सी हैं | मैं जब चलती हूँ तो मेरी कमर लचकती है जिसको देखकर किसी का भी इमान डगमगा जाये | Hindi sex story Naukar

दोस्तों मैं जो आज कहानी आप लोगो के सामने पेश करने जा रही हूँ ये पिछले साल की है जब मेरी चूत में खुजली मची थी और बॉयफ्रेंड मुंबई गया हुआ था इसीलिए अपने नौकर से मैंने अपनी प्यास बुझाई थी | मैं आज आप लोगो को अपनी इस कहानी में बताउंगी की कैसे मुझे उस घर में रहने वाले नौकर ने खुश किया था | आशा करती हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आयेगी और इस कहानी को पढने में मज़ा तो बहुत आएगा |

Naukar Ne choda sex story, दोस्तों मैं जिस घर में रहती हूँ वो घर नही बंगला है | इस बंगले में मैं और मेरा बॉयफ्रेंड कुनाल रहते हैं | दोस्तों मैं अपने घर के नौकर बारे में बता देती हूँ | उसका नाम रामू है और वो अधेड़ उम्र का है | वो दिखने में गोरा है और उसकी बॉडी भी काफी मस्त है | चलिए अब कहानी पर आती हूँ |

दोस्तों एक रात की बात है मैं अपने ड्राइवर के साथ क्लब में गयी और उस रात मैं बहुत ज्यादा ही पी ली और आपे से बाहर हो गयी | किसी तरह मैं घर पहुंची | जब मैं घर आ गयी तो मुझे उस दिन कुछ अजीब सा फील हो रहा था तो मैंने उस रात अपनी टीवी पर एक सेक्सी मूवी लगाई और देखने लगी | सेक्सी मूवी देखकर मेरी चूत की खुजली बढ़ने लगी |

मैं उस रात अपनी टीवी पर सेक्सी मूवी देखने लगी जिससे मेरे अन्दर पूरी तरह से सेक्स की आग लग चुकी थी और उसे शांत करने के लिए मैंने अपने सारे कपडे निकाल दिए और ब्रा और पैंटी में अपने बिस्तर पर लेट गयी | मैं कुछ देर तक अपने बूब्स को हाथ में पकड कर दबाती रही और जब मुझे रहा नही गया तो मैंने अपनी पैंटी को हटा कर अपनी चूत में थूक लगाया और उँगलियों को घुसा कर हिलाने लगी |

गर्म होने की वजह से मैं अपनी चूत में अपनी उँगलियों को घुसा कर जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगी तो मेरे मुंह से सेक्सी आवाजे निकलने लगी | मैं आह आह आह… उई उई मई माँ उई आह्ह… की आवाजे करने लगी | उस टाइम मुझ पर सेक्स का भुत सवार था और मुझे कुछ नही समझ आ रहा था की मैं क्या करूँ चूत की खुजली को शांत करने के लिए | मैं उठी और बाहर बनी झोपडी में गयी जिसमे मेरा नौकर रामू रहता था | मैं जब नीचे उसके कमरे तब पहुची तो उसके रूम का दरवाजा  खटखटाया जिससे वो सो रहा था और कुछ देर बाद आया और दरवाजा खोला

रात में अचानक मेरे दरवाजा खटखटाने के वजह से वो दर गया की क्या हो गया | मैं उसकी कोई बात न सुनती हुई उसके कमरे में घुस गयी और उसके दरवाजे को अन्दर से बंद कर लिया | मैं उसके दरवाजे को बंद करने के बाद उसको पकड कर बोली यार तुम मेरी हेल्प कर दो | वो बोला कैसी हेल्प करूँ तो मैंने उससे बिना झिझके हुए सीधा कहा की मेरी चूत में खुजली हो रही है इसको शांत कर दो और मैं उसके कपडे निकालने लगी | वो चनुक गया और बोला लगा – मैडम, आप होश में नही हैं |

मैंने बोला – बात मानेगा या मैं कुनाल से कह के तेरी नौकरी छुडवा दूं ? वो सोच में पड़ गया | मैंने बोली – देखो रामू, एक तो तुम्हे चूत मिल रही है इतनी अच्छी खुद से, उसपे भी तुम्हे दिक्कत है ? डरो मत, बस मेरी प्यास बुझा दो और मैं किसी से कुछ भी नही कहूँगी | इतना कहने के बाद मैंने उसे पैसों का लालच भी दिया | अब वो मान गया | उसने अपने कपडे निकाल दिए फिर मुझे पकड कर बिस्तर पर लेट गया और मुझे चूमने लगा | वो मेरे पुरे जिस्म को चूम रहा था साथ में अपने हल्के हाथ से पुरे जिस्म को टच कर रहा था जिससे मेरे अन्दर और भी कस के आग लग गयी थी | वो मेरे जिस्म को ऐसे ही कुछ देर तक करता रहा | फिर उसने मेरी होठो पर अपनी होठो को रख कर चूसने लगा और मैं उसकी होठो को मुंह में रख कर चूसने लगी | ये चूमने चाटने का खेल पुरे 10 मिनट तक चलता रहा |

फिर उसने मुझे पकड कर नीचे की ओर खीच लिया और मेरी चूत में अपनी उँगलियों को घुसा कर हिलाने लगा जिससे मुझे बहुत मज़ा आ रहा था | मैंने तब उससे कहा की मेरी चूत को चाटो और वो मेरी चूत को चाटने लगा तो मैं आह आह उई माई औच उह आह… की आवाजे करती हुई मज़े लेने लगी थी |

वो मेरी चूत को जोर जोर से चाट रहा था | मैं बिस्तर को कस के पकड कर आह उह उई आह्ह ऊऊ उ उ ऊऊ माई आउच आह उई माँ… की सेक्सी आवाजे करती हुई मजे ले रही थी | ये सब लगभग 10 मिनट तक चलता रहा जिससे मेरी चूत का पानी निकल गया | अब उसने अपने लंड को मेरे हाथो में पकडा दिया और चूसने को बोला | दोस्तों, वैसे तो मैं अपने बॉयफ्रेंड का भी लंड नही चुस्ती लेकिन उस दिन इतनी गर्म थी की मैंने उसके लंड को हाथ में पकड कर हिलाते हुए मुंह में रख लिया | मैं उसके लंड को मुंह में रख कर चूसने लगी और वो अपने लंड को मुंह में रख कर जोर जोर से चूसाने लगा |

मैं उसके लंड को ऐसे ही कुछ देर तक चूसती रही | फिर उसने अपने लंड को मेरे मुंह से निकाल लिया और मेरी टांगो को पकड कर मेरी चूत में धीरे से घुसा दिया | दोस्तों उसका लंड जैसे ही मेरी चूत में घुसा तो मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और मैं आह उह औच की सिसकियाँ लेने लगी | वो मुझे पकड कर मेरी चूत में धक्के मारने लगा और मैं मज़े लेती हुई चुदने लगी | घर के नौकर से मिटवाई चूत की खुजली

दोस्तों वो मुझे पकड कर अपनी और खीच लिया और फिर मेरी चूत में धक्को की स्पीड तेज कर दी और जोरदार धक्को के साथ मुझे चोदने लगा | मैं उसके धक्को के मज़े लेती हुई चुदाई के मज़े ले रही थी और आह्ह हह हह ह ह ओह्ह ह हह ह ह हह ह उई इ ई इ इ इ उम्म्म म मम म म की सिसकियाँ पर सिसकियाँ लेने लगी | वो मेरी आवाजो को सुनकर जोश में आ रहा था और धक्को की स्पीड तेज करते जा रहा था जिससे कुछ ही देर में मेरी चूत से फच फच की आवाजे आने लगी थी |

फिर उसने मेरी चूत से लंड को निकाल लिया और मुझे अपने लंड पर बैठा लिया | मैं उसके लंड पर बैठ कर ऊपर नीचे होती हुई चुदने लगा और चुदाई के मज़े लेने लगी | मैं उसके लंड पर बैठ कर चुद रही थी और वो मुझे अपने हाथो में पकड कर जोरदार धक्को के साथ चोदने लगा | मैं मस्त होकर चुद रही थी और वो मुझे चोद रहा था |

उसने मुझे फिर अपने हाथो में उठा लिया और खड़ा हो गया और मेरी चूत में उठा उठा कर धक्के मारने लगा |  मैं मस्त धक्को के मे लेती हुई चुद रही थी | वो मुझे ऐसे ही जोरदर धक्को के साथ पुरे 20 मिनट तक चोदता रहा और मैं उस 20 मिनट में 2 बार झड़ चुकी थी | थोड़ी देर बाद वो भी झड गया और उसने अपना सारा माल जमीन पर झाड दिया | दोस्तों उस रात उसने मेरी चूत में होने वाली हलचल को शांत कर दिया था | खुश होकर मैंने उसे 1000 रुपये दिए और बोला – ये सब अगर सिर्फ हम दोनों के बीच रहा तो पैसे भी मिलेंगे और चूत भी | वो ख़ुशी ख़ुशी मान गया | उस दिन के बाद हमने कई बार कुनाल के न होने पर चुदाई के मजे लिए | आशा है की आप लोगों को ये कहानी पसंद आई होगी |

kahanni veg sakte hain :::: sexkahanni.com

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!