Padosi Ke Sath Meri Chut Ki Khujli Mitai -1 – SexKahanni.COM

Padosi Ke Sath Meri Chut Ki Khujli Mitai -1

पड़ोसी के साथ मेरी चुत की खुजली मिटाई

Padosi Ke Sath Meri Chut Ki Khujli Mitai -1

Padosi Ke Sath Meri Chut Ki Khujli Mitai -1   मैं अपने देवर के कमरे में गई वह सोया हुआ था। मैंने उसे उठाया तो वह उठ नहीं रहा था फिर मैंने उसके गाल पर हाथ फेरा तो उसने मेरे हाथ को पकड़ते हुए कहा अरे भाभी आप यहां क्या कर रही हैं? उसने मुझे अपनी तरफ खींचा जब उसने ऐसा किया तो मैं उसके ऊपर लेट गई उसका लंड मुझसे टकराने लगा था मेरे स्तन उसकी छाती से टकराए जा रहे थे उसने मुझे अपने नीचे लेटात हुए चूमना शुरू कर दिया। यह देख मैंने उसे कहा तुम यह सब मत करो अगर तुम्हारे भैया ने देख लिया तो वह मेरे बारे में क्या सोचेगे।

वह तो मेरे ऊपर चढ़ने के लिए तैयार था और अपने गर्मी को निकालने के लिए तैयार था। वह किसी भी हालत में मेरी चूत का मजा लेना चाहता था मैंने उसे मना किया लेकिन वह मेरी बात नहीं मान रहा था उसने मुझे कहा भाभी आप दरवाजा बंद कर लो। मैंने उसे कहा नहीं मैं जा रही हूं लेकिन वह मेरी बात नहीं माना उसने दरवाजा बंद कर लिया। अब उसने अपने लंड को बाहर निकाला मैंने उसे कहा देखो यह सब ठीक नहीं है लेकिन उसने मुझे कहा भाभी आप इसे अपने मुंह में ले लो देखो मैं कितना तड़प रहा हूं यह कहकर उसने अपने लंड को हिलाना शुरू किया।

उसकी गर्मी बढती जा रही थी मैंने उसके लंड को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू किया तो मुझे मजा आने लगा उसको भी अच्छा लग रहा था। मैंने उसके लंड को अपने मुंह के अंदर लेकर चूसा तो मेरे अंदर की गर्मी पूरी तरीके से बढ़ने लगी थी। मेरे अंदर की गर्मी इस कदर बढ़ चुकी थी कि मैं उसके लंड को अपने मुंह मे लेकर तब तक चूसती रही जब तक उसके लंड से पानी बाहर नहीं आ गया। उसने मुझे कहा भाभी आपने तो मुझे पूरी तरीके से गर्म कर दिया है .

मैंने उसे कहा तुम अब जल्दी से बाहर चलो लेकिन वह मेरी बात कहा मान रहा था। उसने मेरी साड़ी को ऊपर करते हुए मेरे लंड को नीचे उतार दिया और मेरी चूत के अंदर उसने अपने लंड को घुसा दिया। जब उसने अपने मोटे लंड को मेरी चूत के अंदर घुसाया तो वह कहने लगा सविता भाभी आपकी चूत बड़ी कमाल की है। मैं भी उत्तेजना में आ चुकी थी मैं अब अपने आपको रोक नहीं पा रही थी मैं उसका साथ देने के लिए मजबूर हो चुकी थी क्योंकि मेरी चूत से निकलता हुआ पानी कुछ ज्यादा ही अधिक हो चुका था।

मैं उसके लिए तड़पने लगी मैं अपनी चूतडो को उसके लंड से टकराने लगी थी उसको मजा आने लगा था और मुझे भी मज़ा आने लगा था। हम दोनों के अंदर की गर्मी बढ़ती जाती थी वह मुझे बड़ी जोरदार तरीके से धक्के मार रहा था मुझे उसके मोटे लंड को अपनी चूत मे लेने में मजा आने लगा था और मेरे अंदर की गर्मी लगातार बढ़ती जा रही थी। मेरी चूत से बहुत अधिक मात्रा में पानी निकलने लगा था वह मुझे कहने लगा मेरे लंड से पानी बाहर निकलने वाला है।

मैंने उसे कहा तुम अपने माल को मेरी चूत में गिरा दो उसने भी मेरी चूतड़ों को पकड़ते हुए मुझे बड़ी जोरदार तरीके से धक्के देना शुरू किया जिससे कि मेरा शरीर हिल जाता और मेरे अंदर की गर्मी इस कदर बढ़ गई कि उसका माल जब मेरी चूत में गिरा तो मुझे अच्छा लगने लगा। मैंने अपने देवर से कहा देवर जी क्या अब चले? वह कहने लगा हां भाभी चलो अब हम लोग अब बाहर आ गए थे। हम दोनों जब बाहर आए तो मेरे पति सोहन मेरा इंतजार कर रहे थे वह कहने लगे सविता तुम कहां चली गई थी?

मैंने उनसे कहा मैं बाहर चली गई थी। उन्होंने देवर जी से पूछा क्या तुम कॉलेज नहीं जा रहे हो? वह कहने लगा नहीं भैया आज मेरा कॉलेज जाने का मन नहीं है इसलिए मैं आज घर पर ही हूं। देवर जी मेरी तरफ देख रहे थे मैंने अपने देवर की ओर देखकर कहा आजकल आपका पढ़ाई में बिल्कुल भी मन नहीं लग रहा। वह मुझे कहने लगा हां भाभी आजकल मेरा पढ़ाई में बिल्कुल भी मन नहीं लग रहा है। मेरे पति ने कहा सविता आज मैं घर जल्दी आ जाऊंगा। मैंने उनसे कहा मैं आज अपनी बहन के घर जा रही हूं।

वह कहने लगे लेकिन तुम वहां से कब तक वापस आ जाओगी। मैंने उनसे कहा मैं वहां से शाम के वक्त लौट आऊंगी तो सोहन कहने लगे ठीक है। उस दिन मैं अपनी बहन के घर चली गई जब मैं अपनी बहन के घर गई तो उस दिन जीजाजी घर पर ही थे। वह मुझे कहने लगे सविता तुम कैसी हो? मैंने उन्हें बताया मैं तो ठीक हूं। मैंने उन्हें कहा आप तो मुझसे मिलने के लिए आते ही नहीं है। वह कहने लगे तुम्हें तो पता ही है समय का कितना आभाव है।

मैं अपने काम की वजह से बिजी रहता हूं वह तो आज मेरे पास समय था तो मैंने सोचा कि तुम्हारी बहन के साथ समय बिता लूं। मैंने जीजा जी से कहा यह तो आपने बड़ा ही अच्छा किया जो आप दीदी के साथ समय बिताने के बारे में सोच रहे है। उस दिन शाम के वक्त मै घर लौट आई जब मैं शाम को घर लौटी तो मेरे पति सोहन ने मुझे कहा आज हमारे घर पर उनके मामा जी आने वाले हैं। मैंने सोहन से कहा वह कब तक आएंगे। सोहन कहने लगे वह थोड़ी देर बाद पहुंचते ही होंगे मैंने और मेरी सासू मां ने उस दिन रात का खाना बनाया।

आगे पढ़ने केलिए NEXT बटन के ऊपर क्लिक करो

33301cookie-checkPadosi Ke Sath Meri Chut Ki Khujli Mitai -1
One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!